सोमवार, 19 अगस्त 2013

लबों पर गालियाँ

सभा में तालियाँ हैं और हम हैं
लबों पर गालियाँ हैं और हम हैं

वही सपने दिखाते आ रहे हैं साठ सालों से
सियासी थालियाँ हैं और हम हैं

उन्हें है धर्म से मतलब, उन्हें है जाति की चिन्ता
दरकती डालियाँ हैं और हम हैं ...

कहीं डाका, कहीं दंगा, कहीं आतंक का साया
लहू की नालियाँ हैं और हम हैं
वीरेन्द्र वत्स

कोई टिप्पणी नहीं: